मुखपृष्ठ > दीर्घायु जिला
EPFO ने पेंशनभोगियों को दी बड़ी राहत, अब 28 फरवरी तक दे सकते हैं जीवन प्रमाणपत्र
रिलीज़ की तारीख:2022-10-02 07:25:25
विचारों:111

नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्ररणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण '83' की सफलता के बाद छुट्टियां मनाने निकले******Highlights फिल्म '83' के हिट होने के बाद बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण और एक्टर रणवीर सिंह छुट्टियां मनाने के लिए रवाना हो गए हैं। दोनों एयरपोर्ट पर स्पॉट किए गए। दोनों को सोमवार सुबह एयरपोर्ट पर देखा गया जब वे अपनी छुट्टी मनाने के लिए शहर से बाहर निकले। दीपिका ने व्हाइट टॉप और म्यूट ब्राउन पैंट पहना हुआ था। वहीं, रणवीर ने लेडर की जैकेट, चश्मा और एक काले रंग की टोपी पहन रखी थी। कपल्स फिल्म के सफलतापूर्वक रिलीज होने के बाद छुट्टी बिताने के लिए रवाना हुए।2022 के लिए दीपिका और रणवीर के पास कई फिल्मे हैं, जिन्हें वे पूरा करेंगे। दीपिका जनवरी में एक और फिल्म 'गहराइयां' रिलीज करने के लिए तैयार हैं। फिल्म के टीजर को लोगों ने काफी सराहा है और रणवीर अपनी अगली फिल्म के लिए काम पर वापस आएंगे।रणवीर के पास 'जयेशभाई जोरदार' और रोहित शेट्टी निर्देशित 'सर्कस' जैसी फिल्में हैं, जो 2022 में रिलीज होंगी।

नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्रHappy Janmashtami 2019: बॉलीवुड के इन राधा-कृष्णा गानों के बिना अधूरी है जन्माष्टमी******जन्माष्टमी का त्यौहार गानों के बिना अधूरा है, और राधा-कृष्णा पर हमारे बॉलीवुड में कई सारे गाने भी बने हैं। 23-24 अगस्त 2019 को इस बार जन्माष्टमी का त्यौहार है। इस मौके पर हम आपको कुछ ऐसे ही खूबसूरत राधा-कान्हा के गाने सुनाने जा रहे हैं जिन्हें सुनकर आपकी जन्माष्टमी और भी खूबसूरत हो जाएगी।हाल ही में आयुष्मान खुराना और नुसरत भरूचा पर फिल्माया गाना'ड्रीम गर्ल' रिलीज हुआ है। जन्माष्टमी आने वाली है और इस बार ये गाना खूब बजने वाला है। स्कूल में बच्चों को भी परफॉर्मेंस के लिए नया गाना मिल गया है। अभी देखिए ये गाना-बाहुबली 2 में कन्हैया पर एक बेहद खूबसूरत गाना बना है। अनुष्का शेट्टी इस गाने में कन्हैया को सुलाती हुई संध्या भजन गा रही हैं। देखिए ये खूबसूरत गाना-अक्षय कुमार की फिल्म 'ओह माय गॉड' का गाना 'गो गो गो गोविंदा' भी हर साल दही हांडी के मौके पर बजता है। इस बार की भी जन्माष्टमी इस गाने के बिना तो अधूरी होगी। इस गाने में सोनाक्षी सिन्हा और प्रभु देवा डांस करते दिख रहे हैं।अर्जुन कपूर और सोनाक्षी सिन्हा की फिल्म 'तेवर' फिल्म में सोनाक्षी ने राधा नाचेगी गाना किया था। ये गाना भी हर जन्माष्टमी बजता है।आलिया भट्ट, सिद्धार्थ मल्होत्रा और वरुण धवन की डेब्यू फिल्म 'स्टूडेंट ऑफ द ईयर' का गाना 'राधा' भी खूब पसंद किया गया था। ये गाना हर साल जन्माष्टमी पर बजता है। अभी देखिए ये गाना-आमिर खान और ग्रेसी सिंह पर फिल्माया गाना 'राधा कैसे ना जले' भी आप इस जन्माष्टमी सुन सकते हैं। गाने को उदित नारायण और आशा भोंसले ने गाया है।फिल्म 'हम साथ साथ हैं' में करिश्मा कपूर, सोनाली बेंद्रे और तब्बू ने बेहद खूबसूरती से नटखट कन्हैया पर गाना गाया था और डांस किया था। इस गाने के बिना जन्माष्टमी अधूरी ही होगी।विवेक ओबरॉय की फिल्म का ये गाना भी बेहद खूबसूरत है।नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्रJames Webb Space Telescope: नासा के नए टेलिस्कोप का कमाल, तस्वीरों में दिखा 'तारा' की मृत्यु, आकाशगंगाओं का डांस******Highlightsनासा (NASA) ने मंगलवार को अपनी नयी शक्तिशाली अंतरिक्ष दूरबीन से ली गईं तस्वीरें जारी की। इनमें एक तस्वीर में एक मरते हुए तारे की झागदार नीली और नारंगी छवि शामिल है। इससे पहले सोमवार को इस दूरबीन से ली गई पहली तस्वीर जारी की गई जो आकाशगंगाओं से भरी है और यह ब्रह्मांड (Orbit) का अब तक का सबसे गहरा रूप प्रस्तुत करती है। मंगलवार को जारी की गईं चार अतिरिक्त तस्वीरों में ब्रह्मांड की और अधिक सुंदर तस्वीर दिखाई देती है। इनमें से एक तस्वीर में पांच आकाशगंगाएं डांस की मुद्रा में दिखीं जो 29 करोड़ प्रकाशवर्ष दूर हैं।दस अरब डॉलर में बनी दूरबीननासा प्रशासक बिल नेल्सन ने कहा, ''प्रत्येक छवि एक नयी खोज है और प्रत्येक मानवता को एक ऐसा दृश्य प्रदान करेगी जो हमने पहले कभी नहीं देखा है।'' जेम्स वेब अंतरिक्ष दूरबीन दस अरब डॉलर की लागत से तैयार हुई है। व्हाइट हाउस में सोमवार को एक कार्यक्रम में जारी की गई इसकी पहली तस्वीर 'डीप फील्ड' में अनेक तारे और विशाल आकाशगंगाएं दिखाई देती हैं। जो बाइडन ने इसे आश्चर्यजनक बताते हुए कहा कि यह तस्वीर हजारों आकाशगंगाओं से भरी हुई है। उन्होंने इस टेलिस्कोप को मानवता की महान इंजीनियरिंग उपलब्धियों में एक बताया। नासा के प्रशासक बिल नेल्सन ने पिछले महीने ही इस बात का ऐलान किया था कि हम मानवता को ब्रह्मांड के बारे में एक नया दृष्टिकोण देने जा रहे हैं और यह एक ऐसा दृश्य है जिसे हमने पहले कभी नहीं देखा है।खुलेंगे ब्रह्मांड की उत्पत्ति से जुड़े कई राजइससे पहले नासा ने इन तस्वीरों को एक खूबसूरत टीजर फोटो रिलीज किया था। इसमें नासा की डीप स्पेस तस्वीरें अगले हफ्ते रिलीज होने की बात कही गई थी। वैज्ञानिकों की मानें तो यह शक्थिशाली उपरकरण ब्रह्मांड की उत्पत्ति से जुड़े कई राज खोल सकता है। वेब टेलिस्कोप से जुड़े एक वैज्ञानिक नील रोलैंड्स ने बताया कि जब यह तस्वीर ली गई तो मैं इन धुंधली आकाशगंगाओं में विस्तृत संरचना को स्पष्ट रूप से देखकर रोमांचित हो गया। नासा के प्रशासक बिल नेल्सन ने पिछले हफ्ते कहा था कि वेब टेलिस्कोप पहले की किसी भी दूरबीन की तुलना में अंतरिक्ष में सबसे अधिक दूरी तक देखने में सक्षम है।

EPFO ने पेंशनभोगियों को दी बड़ी राहत, अब 28 फरवरी तक दे सकते हैं जीवन प्रमाणपत्र

नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्रEase of Doing Business: आंध्र प्रदेश पहले स्थान पर और यूपी दूसरे पर, ये रहे टॉप 10 राज्य****** देश का कौन सा राज्य कारोबार के लिए सबसे बेहतर है? यानि Ease of Doing Business के मामले में कौन राज्य सबसे आगे है? शनिवार को केंद्र सरकार ने ऐसे राज्यों की लिस्ट जारी की है जो Ease of Doing Business को लेकर सबसे बेहतर हैं। यह रैंकिंग 2019 में किए गए प्रदर्शन के आधार पर है। ऐसे टॉप 10 राज्यों की बात करें तो पहले स्थान पर आंध्र प्रदेश है और दूसरे पर उत्तर प्रदेश। 2018 में उत्तर प्रदेश 12वें स्थान पर था लेकिन सरकार ने निवेशकों को अपनी तरफ आकर्षित करने के लिए जो नीतियां अपनाई हैं उसकी वजह से 2019 में उत्तर प्रदेश दूसरे स्थान पर पहुंच गया है।Ease of Doing Business रैंकिंग में तीसरे स्थान पर तेलंगाना, चौथे पर मध्य प्रदेश, पांचवें पर झारखंड, छठे पर छत्तीसगढ़, सातवें पर हिमाचल प्रदेश, आठवें पर राजस्थान, नौवें पर पश्चिम बंगाल और 10वें स्थान पर गुजरात है। निवेशकों को अपनी तरफ आकर्षि करने में सबसे ज्यादा प्रतिस्पर्धा आंध्र प्रदेश और उत्तर प्रदेश के बीच में देखने को मिली है जिस वजह से ये पहले और दूसरे स्थान पर हैं। इस मामले में दिल्ली ने भी अच्छा प्रदर्शन किया है, 2018 में दिल्ली 23वें स्थान पर थी और 2019 की रैंकिंग में अब यह 12वें स्थान पर पहुंच गई है।केंद्रीय मंत्री पीयूष गोलय की तरफ से जारी की गई जानकारी के मुताबिक उत्तरी जोन में इस साल उत्तर प्रदेश ने सबसे अच्छा प्रदर्शन किया है और पूर्वी जोन में झारखंड सबसे आगे रहा है, वहीं पश्चिमी जोन में मध्य प्रदेश, दक्षिणी जोन में आंध्र प्रदेश और पूर्वोत्तर में असम इस मामले में सबसे आगे रहा है। शनिवार को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, रेल मंत्री पीयूष गोयल और शहरी आवास मंत्री हरदीप पुरी ने यह रैंकिंग जारी की है।नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्रPakistan Terrorist Attack: पाकिस्तान के बलूचिस्तान में आतंकियों ने चार मजदूरों को गोलियों से भूना******Highlights पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत के हरनाई जिले में अज्ञात आतंकवादियों ने मजदूरों के एक कैंप पर अंधाधुंध फायरिंग की। इस गोलीबारी में कम से कम चार मजदूरों की मौत हो गयी और चार लोग घायल हो गए। अधिकारियों ने बताया कि हरनाई जिले के चापर बाएं इलाके में शुक्रवार देर रात को यह हमला हुआ। सिबी डिवीजन के आयुक्त अब्दुल अजीज ने बताया कि हमले में तीन मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। लेकिन शवों और घायलों को क्वेटा ले जाने के लिए मौके पर पहुंचे बचाव अधिकारियों ने कहा कि कम से कम चार मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई और चार अन्य घायल हो गए।अजीज ने कहा कि हमलावरों ने शिविर में आग भी लगा दी और कई वाहनों को भी आग के हवाले कर दिया। मजदूर एक सरकारी निर्माण परियोजना में काम कर रहे थे। इस हमले की जिम्मेदारी अब तक किसी आतंकवादी संगठन ने नहीं ली है।इससे पहले बलूचिस्तान में अलगाववादी और आतंकवादी संगठन प्रांत में सरकारी और चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर प्रजेक्ट में काम करने वाले मजदूरों को निशाना बनाते रहे हैं। मई 2017 में मोटरसाइकिल सवार हथियारबंद लोगों ने ग्वादर में एक सड़क पर काम कर रहे मजदूरों पर गोलीबारी की थी, जिनमें से 10 की मौके पर ही मौत हो गई थी।इसी तरह, 2018 में एक निजी दूरसंचार कंपनी के लिए काम कर रहे छह मजदूरों की खारान जिले में अज्ञात लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद, 2021 की शुरुआत में इस्लामिक स्टेट समूह ने बलूचिस्तान के मच इलाके में 11 कोयला खनिकों की हत्या की जिम्मेदारी ली। आतंकवादियों ने पहले शिया हजारा समुदाय के सभी मजदूरों को एक कोयला खदान से अगवा किया और फिर पश्चिमी पाकिस्तानी प्रांत बलूचिस्तान में उनकी हत्या कर दी।नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्रSBI के ग्राहक ध्यान दें! घर-वाहन समेत दूसरे लोन की EMI बढ़ेगी, बैंक ने कर्ज की दर में दूसरी बार किया इजाफा******SBIभारतीय स्टेट बैंक (State Bank ) ने एक बार फिर एमसीएलआर रेट में इजाफा कर दिया है। बैंक ने एक महीने के अंदर यह दूसरी बढ़ोतरी की है। इस बढ़ोतरी से बैंक से घर-वाहन समेत दूसरे लोन लेना महंगा हो जाएगा। वहीं, पहले से लोन लिए ग्राहकों पर भी ईएमआई का बोझ बढ़ेगा। मिली जानकारी के मुताबिक, एसबीआई ने अपनी सीमांत लागत आधारित ऋण दर (एमसीएलआर) में 10 आधार अंकों या 0.1 प्रतिशत की वृद्धि की है। यह एक महीने में दूसरी बढ़ोतरी है। लगातार दो वृद्धि के साथ एमसीएलआर में 0.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।एक महीने में दूसरी बढ़ोतरी के बाद अब एसबीआई का न्यूनतम ब्याज दर 6.85 फीसदी और अधिकतम ब्याज दर 7.5 फीसदी होगा। ओवरनाइट लोन के लिए MCLR 6.75 फीसदी से बढ़कर 6.85 फीसदी हो गया। एक महीने के लिए एमसीएलआर अब 6.85 फीसदी, तीन महीने के लिए 6.85 फीसदी, छह महीने के लिए 7.15 फीसदी, एक साल के लिए 7.20 फीसदी, दो साल के लिए 7.40 फीसदी और तीन साल के लिए 7.50 फीसदी हो गया है। ऐसे में स्टेट बैंक देश का सबसे बड़ा बैंक है। होम लोन और ऑटो लोन में उसकी हिस्सेदारी 35 से लेकर 45 फीसदी तक है। माना जा रहा है कि एसबीआई के ब्याज दरों में बढ़ोतरी के बाद दूसरे बड़े बैंक भी जल्द ही ऐसा ही कदम उठा सकते हैं।सीमांत लागत आधारित ऋण दर (एमसीएलआर) किसी भी बैंक का अंदरुनी बेंचमार्क रेट होता है। यह किसी भी लोन की न्यूनतम ब्याज दर तय करने को परिभाषित करता है। एमसीएलआर को आरबीआई ने भारतीय वित्तीय प्रणाली में 2016 में शामिल किया था। इससे पहले 2010 में लागू किए गए बेस रेट सिस्टम के तहत ब्याज तय किया जाता था। एससीएलआर में बढ़ोतरी का मतलब है कि बैंक की लगात बढ़ गई है। वह इसकी भरपाई लोन के ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर करेगा। गौरतलब है कि आरबीआई द्वारा रेपो रेट में बढ़ोतरी के बाद सभी सरकारी और प्राइवेट बैंक ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर रहे हैं। इससे लोन की ईएमआई का बोझ बढ़ रहा है।

EPFO ने पेंशनभोगियों को दी बड़ी राहत, अब 28 फरवरी तक दे सकते हैं जीवन प्रमाणपत्र

नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्रVIDEO: बीच सड़क में कार ने अचानक लिया यू-टर्न, हादसे में बाइक सवार की मौत, 2 अन्य घायल******मुम्बई के लोअर परेल इलाके में हृदयविदारक हादसा हुआ है। एक कार चालक के गलत यू-टर्न ले लिया, जिससे इलाज के दौरान 1 बाइक सवार की मौत हो गई जबकि 2 अन्य गंभीर रूप से जख्मी हो गए हैं। पूरी घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई है।दरअसल, में लोअर परेल के फीनिक्स मिल मॉल के सामने की मुख्य सड़क पर दादर की दिशा से जा रही एक कार 29 सितंबर की आधी रात को अचानक यू टर्न लेती है।बीच सड़क पर कार द्वारा लिए इस यू टर्न के कारण सामने की ऑपोज़िट दिशा से आ रही एक मोटरसाइकिल इस कार को बचाने के चक्कर में सड़क की दूसरी तरफ चली जाती है, जिसके कारण दूसरी तरफ से आ रही बाइक से ये मोटरसाइकिल टकरा जाती है।हादसे में मोटरसाइकिल पर सवार भावेश अरुण संघवी उम्र 25 साल, घाटकोपर का रिहिवासी और पीछे बैठा कृष्णा अशोक कुराडकर उम्र 26 साल, चेम्बूर रिहिवासी थे। इन दोनों को नायर अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने 1 को मृत घोषित कर दिया गया जबकि दूसरा गंभीर रूप से जख्मी है और उसका इलाज किया जा रहा है। वहीं जिस दूसरी बाइक को इस बाइक ने ठोका था उसके सवार अशफाक मुल्तानी को हल्की चोटे आई हैं, उसका सायन अस्पताल में इलाज चल रहा है।एन एम जोशी मार्ग पुलिस ने इस मामले में सीसीटीवी के आधार पर आईपीसी की धाराओं 279,337,304 A के तहत और बॉम्बे मोटर एक्ट 184,134 के तहत केस दर्ज कर लिया है और कार सवार आरोपी की तलाश की जा रही है।नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्र"40,000 साल से हम सभी भारतीय का DNA समान, एक पूर्वज के वंशज हैं"- RSS प्रमुख मोहन भागवत******Highlights राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के प्रमुख मोहन भागवत ने कहा है कि 96 वर्ष से आरएसएस का हमेशा विरोध हुआ, लेकिन हम समाज की सेवा में लगे रहे। पिछले दिनों धर्मशाला में आयोजित पूर्व सैनिक प्रबोधन कार्यक्रम में शिरकत करते हुए भागवत ने कहा कि कि संघ को तो थोड़ी राहत तब मिली - जब स्वयंसेवक सत्ता में आए। आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि 40,000 साल से भारत के लोगों का डीएनए समान है। भागवत ने कहा, " हम यहां पर हैं और पक्के हैं, चलते हुए आ रहे हैं। 40,000 साल पूर्व से भारत के लोगों का, आज के लोगों का डीएनए समान है... ऐसी ही हवा में बात नहीं कर रहा हूं मैं.. हुआ है और आगे की घड़ी में भी वहीं सिद्ध हुआ है। हम समान पूर्वजों के वंशज हैं, उन पूर्वजों के कारण अपना देश फला-फूला, अपनी संस्कृति आज तक चलती आई।"इस दौरान ने कहा, ‘सरकार हमारे स्वयंसेवकों को किसी भी प्रकार का आश्वासन नहीं देती है। लोग हमसे पूछते हैं कि हमें सरकार से क्या मिलता है। उनके लिए मेरा जवाब यह है कि हमारे पास जो कुछ भी है उसे हमें खोना भी पड़ सकता है।’ चिकित्सा में प्राचीन भारतीय पद्धतियों पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा, ‘हमें हमारे पारंपरिक भारतीय उपचार जैसे कि काढ़ा, क्वाथ और आरोग्यशास्त्र के माध्यम से देखा गया। अब, दुनिया भारत की ओर देख रही है और भारतीय मॉडल का अनुकरण करना चाहती है। हमारा देश भले ही विश्व शक्ति न बने, लेकिन विश्व गुरु जरूर हो सकता है।’सूत्रों के मुताबिक मोहन भागवत हिमाचल प्रदेश के 5 दिवसीय दौरे पर हैं और वो तिब्बती आध्यात्मिक गुरु दलाई लामा से मुलाकात कर सकते हैं। शनिवार को RSS प्रमुख ने दिवंगत CDS बिपिन रावत और 13 अन्य लोगों की याद में एक मिनट का मौन रखा जिनका हाल ही में तमिलनाडु में कुन्नूर के पास हेलीकॉप्टर दुर्घटना में निधन हो गया था। उन्होंने एकता का आह्वान करते हुए कहा कि भारत की अविभाजित भूमि सदियों से विदेशी आक्रमणकारियों के साथ कई लड़ाई हार गई क्योंकि स्थानीय आबादी एकजुट नहीं थी। उन्होंने समाज सुधारक डॉ. बी. आर. आंबेडकर का हवाला देते हुए कहा, ‘हम कभी किसी की ताकत से नहीं, बल्कि अपनी कमजोरियों से पराजित होते हैं।’

EPFO ने पेंशनभोगियों को दी बड़ी राहत, अब 28 फरवरी तक दे सकते हैं जीवन प्रमाणपत्र

नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्रReliance Jio के 6 साल पूरे: 100 गुना बढ़ी डाटा की खपत, 5जी लॉन्च के बाद 2 गुना और बढ़ने की उम्मीद******Highlightsटेलीकॉम सेक्टर की दिग्गज कंपनी रिलायंस जियो, 5 सितंबर 2022 को अपने लॉन्च की 6ठी सालगिरह मना रहा है। इन 6 वर्षों में टेलीकॉम इंडस्ट्री ने औसतन प्रतिव्यक्ति प्रतिमाह डाटा की खपत में 100 गुना से भी अधिक की वृद्धि दर्ज की है। ट्राई के मुताबिक, जियो के लॉन्च से पहले हर भारतीय ग्राहक एक महीने में मात्र 154 एमबी डाटा इस्तेमाल किया करता था। अब डाटा खपत का आंकड़ा 100 गुना बढ़कर 15.8 जीबी प्रतिमाह प्रतिग्राहक के आश्चर्यजनक स्तर पर जा पहुंचा है। उधर जियो यूजर्स हर महीने करीब 20 जीबी डाटा इस्तेमाल करते हैं जो इंडस्ट्री के आंकड़े से कहीं अधिक है।मुकेश अंबानी ने दीवाली तक 5जी लॉन्च की घोषणा कर दी है। 5जी लॉन्च के बाद डाटा खपत में खासा उछाल देखने को मिल सकता है। हालिया जारी एरिक्सन मोबिलिटी रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि 5जी आने के बाद डाटा खपत अगले तीन साल में 2 गुना से भी अधिक बढ़ जाएगी। जानकारों का मानना है कि 5जी तकनीक की हाई परफॉर्मेंस और हाई स्पीड की बदौलत नए उद्योग धंधे पनपेंगे जो बड़ी संख्या में यूजर्स को अपनी तरफ आकर्षित करेंगे। साथ ही वीडियो की मांग में भी तेज वृद्धि संभव है। जिससे डाटा की मांग और भी बढ़ेगी।4जी तकनीक और स्पीड में रिलायंस जियो का रिकॉर्ड शानदार रहा है। अब 5जी को लेकर भी कंपनी के बड़े प्लान सामने आ रहे हैं। कनेक्टिड ड्रोन, कनेक्टिड एंबुलेंस- अस्पताल, कनेक्टिड खेत-खलिहान, कनेक्टिड स्कूल-कॉलेज, ईकॉमर्स ईज,अविश्वसनीय स्पीड पर-एंटरटेनमेंट, रोबोटिक्स, क्लाउड पीसी, इमर्सिव टेक्नोलॉजी के साथ वर्चुअल थिंग्स जैसी तकनीकों में कंपनी महारथ हासिल कर रही है। रिलायंस इंडस्‍ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने 6 साल पहले जब जियो लॉन्च किया था तो किसी को गुमान न था कि लॉन्च के चंद वर्षों में ही जियो देश की ही नही दुनिया की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनियों में शुमार हो जाएगी। आज जियो भारत में 41 करोड़ 30 लाख मोबाइल व करीब 70 लाख जियोफाइबर ग्राहकों के साथ 36% बाजार के हिस्से पर काबिज है। रेवेन्यू के मामले में इसका हिस्सा 40.3% है। जियो की स्वदेशी 5जी तकनीक की बदौलत, आने वाले वक्त में क्या बदलाव आएंगे या आ सकते हैं, इसकी तस्वीर कंपनी के पिछले 6 सालों की उपलब्धियों में दिखाई देती है। वॉयस कॉलिंग के बड़े बिल भरने वाले इस देश में जियो ने आउटगोइंग वॉयस कॉल को फ्री कर दिया और वो भी सभी नेटवर्कस पर, ग्राहकों के लिए यह पहला अनुभव था। मोबाइल रखना अब पहले से कहीं आसान हो गया है। मोबाइल बिलों में भी भारी कमी आई है। जियो के आउटगोइंग कॉल फ्री करने से बाकी ऑपरेटरों पर भारी दवाब बना और उन्हें भी अपनी रणनीति में बदलाव कर दाम कम करने पड़े। भारत में ने केवल डाटा की खपत सबसे अधिक है, डाटा की कीमतें भी पिछले 6 सालों में आसमान से जमीन पर आ गिरी हैं। जियो के लॉन्च के वक्त अपने देश में ग्राहकों को एक जीबी डाटा के लिए करीब 250 रु चुकाने पड़ते थे। डाटा कीमतों पर जियो के वार का ही नतीजा है कि आज यानी 2022 में यह 13 रू के आस पास मिल रहा है। यानी डाटा की कीमतें 6 साल के अंदर करीब 95 फीसदी गिरी हैं। यह आंकड़ा इसलिए भी बेहद खास है कि दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में डाटा की कीमतें भारत में सबसे कम हैं।रिलायंस जियो भारतीय डिजिटल इकॉनमी की रीढ़ बना हुआ है । सरकारी प्रयासों से हासिल जागरूकता और जियो के सस्ते डाटा ने डिजिटल इकॉनमी में जान फूंक दी है। जियो के लॉन्च के वक्त यानी सितंबर 21016 में यूपीआई की मार्फत केवल 32.64 करोड़ का ट्रांजैक्शन होता था। अगस्त 2022 आते आते इसमें भारी इजाफा देखने को मिला आज यूपीआई से 10.72 लाख करोड़ का ट्रांजैक्शन होता है। वजह साफ है, पिछले 6 सालों में न केवल ब्रॉडबैंड सब्सक्राइबर 19.23 करोड़ (Sept 2016) से बढ़कर करीब 80 करोड़ (June 2022) हो गए वहीं औसत इंटरनेट स्पीड भी 5गुना बढ़कर 5.6 एमबीपीएस (March 2016) से 23.16एमबीपीएस (April 2022) जा पहुंची।आज भारत 105 यूनीकॉर्न कंपनियों का घर है। जिनका वैल्यूएशन 338 अरब डॉलर से भी अधिक है। जबकि जियो के लॉन्च से पहले भारत में 4 यूनिकॉर्न कंपनियां ही हुआ करती थी। यूनीकॉर्न दरअसल उन स्टार्टअप कंपनियों को कहा जाता है जिनका नेटवर्थ 1 अरब डॉलर को पार कर जाता है। वर्ष 2021 में 44 स्टार्टअप्स ने यूनीकॉर्न कंपनियों की लिस्ट में अपनी जगह बनाई है। नई बनी यूनीकॉर्न अपनी सफलता का श्रेय जियो को देती हैं। यूनीकॉर्न कंपनी जूमैटो की शेयर बाजार में बंपर लिस्टिंग के बाद जोमैटो के संस्थापक और सीईओ दीपिंदर गोयल ने ऑफिशियली जियो को धन्यवाद दिया था।देश में करीब 50 करोड़ लोग पुरानी और मंहगी (कॉलिंग के लिए) 2जी तकनीक का इस्तेमाल केवल इसलिए कर रहे थे क्योंकि उनके पास 4जी तकनीक पर चलने वाले मंहगे फोन खरीदने के पैसे नही थे या वे बटन वाला फोन ही इस्तेमाल करना चाहते थे। जियो ने किफायती दरों पर 4जी जियोफोन लॉन्च कर इन दोनों ही दिक्कतों को दूर कर दिया। जियोफोन भारतीय बाजारों में अबतक का सबसे सफल मोबाइल फोन साबित हुआ। इसकी 11 करोड़ से अधिक यूनिट बिकी हैं। हाशिए पर रह रहे करोड़ों लोगों को जियो ने जियोफोन की मार्फत डिजिटल दुनिया से जोड़ा है।लॉकडाउन का दंश झेल रहे देश में जियो की फाइबर सर्विस एक बड़ा सहारा बन कर उभरी थी। सोचिए लॉकडाउन में अगर इंटरनेट न होता तो हमारी क्या हालत होती। वर्क फ्रॉम होम, क्लास फ्रॉम होम या ई शॉपिंग जियोफाइबर ने अपनी विश्वसनीय सर्विस और स्पीड से कोई काम रूकने नही दिया। तीन वर्षों में ही 70 लाख परिसर जियोफाइबर से जुड़ चुके हैं। वर्क फ्रॉम होम का कल्चर कंपनियों को ऐसा रास आया कि लॉकडाउन के बाद भी बहुत सी कंपनियां वर्क फ्रॉम होम पर ही जोर दे रही हैं। जिंदगी आसान बनाने के अलावा जियोफाइबर अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार भी पैदा कर रही है। पिछले कुछ वर्षों में उभरी अनेकों इंटरनेट, ई-कॉमर्स, होम डिलिवरी और एंटरटेनमेंट कंपनियों ने हजारों- लाखों को काम दिया है।

नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्रSL vs PAK 2nd Test Day 4 Highlights: पाकिस्तान को जीत के लिए चाहिए 419 रन और, श्रीलंका को 9 विकेट की जरूरत******श्रीलंका की पहली पारी के 378 रनों के जवाब में पाकिस्तानी टीम तीसरे दिन 231 रनों पर सिमट गई। मेजबानों ने चौथे दिनकप्तान दिमुथ करुणारत्ने की अर्धशतकीय और धनंजय डी सिल्वा कीशानदार शतकीयपारियों की बदौलत दूसरी पारी 8 विकेट पर 360 रन बनाकर घोषित की। पहली पारी में मेजबान टीम को कुल 147 रनों की बढ़त मिलती थी जिसके साथ पाकिस्तान को जीत के लिए मिला 508 रनों का लक्ष्य। चौथे दिन भी खराब रोशनी के कारण 26 ओवर पहले खेल खत्म हुआ। पाकिस्तान का स्कोर स्टंप्स तक एक विकेट पर 89 रन था। पाकिस्तान को जीत के लिए 419 रनों की जरूरत है वहीं श्रीलंका को सीरीज में बराबरी करने के लिए 9 विकेट और चाहिए हैं।नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्रShukra Gochar: शुक्र का मेष राशि में गोचर इन 3 राशियों को नहीं दे रहा शुभ संकेत******सभी 9 ग्रह एक निश्चित समय पर एक राशि से दूसरी राशि में गोचर करते हैं, इन ग्रहों के राशि परिवर्तन से सभी राशियों पर अलग-अलग प्रभाव पड़ता है। 23 मई को रात 08.39 बजे शुक्र मीन राशि से निकल कर मेष राशि में प्रवेश कर चुके हैं। ज्योतिष शास्त्र में शुक्र को भौतिक सुख, विलासिता पूर्ण जीवन, रोमांस, ग्लैमर आदि का कारक ग्रह माना जाता है। शुक्र को रचनात्मकता और रोमांस का ग्रह माना जाता है। यह जातक के जीवन विलासिता की स्थिति लेकर आता है। यह जातक के जीवन में प्रेम संबंधों को प्रभावित करता है। शुक्र को विवाह के लिए प्रमुख ग्रहों में से एक माना जाता है। लेकिन शुक्र के मेष राशि में प्रवेश करने से तीन राशियों पर अच्छा प्रभाव नहीं पड़ेगा, एस्ट्रो फ्रेंड चिराग बेजान दारूवाला से जानते हैं वो तीन राशियां कौन सी हैं।राशि चक्र के बारहवें भाव में शुक्र के गोचर का अशुभ प्रभाव व्यक्ति के स्वास्थ्य में समस्या पैदा कर सकता है। यात्रा करने से देश को लाभ होगा। घुमना अधिक महंगा पड़ शकता है । परिवार और दोस्तों से अच्छी खबर मिलने की बेहतर संभावना है। यदि आप अपना घर या वाहन बेचने की सोच रहे हैं तो समय अनुकूल है। कोर्ट के मामले का निपटाना ही समझदारी है।शुक्र के अष्टम भाव में गोचर के मिले-जुले परिणाम होंगे। अपने लोगों को नीचा दिखाने की कोशिश करेंगे। पक्षों के बीच विवादों और अदालत से संबंधित अन्य मामलों को सुलझाया जाना चाहिए। पैतृक संपत्ति बेचने से बचें। नहीं तो आर्थिक नुकसान होने की संभावना है। किसी को ऋण के रूप में अधिक धन उधार न दें, क्योंकि या तो आप धन खो देंगे या यह समय पर प्राप्त नहीं होगा। इन सबके बावजूद नौकरी की प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी।राशि के छठे भाव में गोचर करते समय शुक्र को कई उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ेगा। यदि आप घर या वाहन के लिए बड़ा ऋण लेना चाहते हैं तो यह समय ठीक नहीं है। आपके शत्रु आपको शर्मिंदा करने का कोई मौका नहीं छोड़ेंगे। अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें। विदेशी नागरिकता या सेवा भी सफल होगी। परीक्षा में उच्च अंक प्राप्त करने के लिए, छात्रों को अधिक मेहनत करने की आवश्यकता होगी।

नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्रPakistan News: पाकिस्तानी पीएम और उनके बेटे पर गिरी गाज, मनी लॉन्ड्रिंग केस में कोर्ट ने किया तलब******Highlights पाकिस्तान की एक स्पेशल कोर्ट ने मनी लॉन्ड्रिंग केस में पाकिस्तानी पीएम शहबाज शरीफ और उनके बेटे हमजा शहबाज को तलब किया है। कोर्ट ने उन्हें 16 अरब रूपये के मनी लॉन्ड्रिंग मामले में उन पर आरोप तय करने के लिए शनिवार को उन्हें सात सितंबर के लिए तलब किया । संघीय जांच एजेंसी (FIA) ने शहबाज (70), उनके बेटों --हमजा (47) और सुलेमान (40) के विरूद्ध भ्रष्टाचार एवं धनशोधन रोकथाम अधिनियम(Prevention of Corruption and Money Laundering Act) की विभिन्न धाराओं के तहत नवंबर 2020 में मामला दर्ज किया था।लाहौर की एक स्पेशल कोर्ट इस मामले की सुनवाई कर रही है और वह पहले ही पिता एवं पुत्र को गिरफ्तारी पूर्व जमानत दे चुकी है। कोर्ट में शहबाज और हमजा सुनवाई के दौरान गैरहाजिर थे। उनके वकीलों ने एक महीने की छूट देने का अनुरोध किया। शहबाज के वकील अमजद परवेज ने अदालत से कहा कि उनके मुवक्किल की तबियत ठीक नहीं है और उन्हें यात्रा नहीं करने की सलाह दी गई है। हमजा के वकील राव औरंगजेब ने कहा कि उनके मुवक्किल को गंभीर पीठदर्द है और उन्हें आराम की जरूरत है। FIA के वकील फारूक बाजवा ने छूट पर आपत्ति नहीं जताई। तब अदालत ने छूट दे दी।बाजवा ने अदालत से कहा कि एजेंसी ने पीएम के दूसरे बेटे सुलेमा के 19 बैंक खातों का रिकार्ड प्राप्त कर लिया है जबकि अन्य सात के रिकार्ड प्राप्त किए जाने हैं। दोनों पक्षों को सुनने के बाद अदालत ने सात सितंबर तक के लिए मामले की सुनवाई स्थगित कर दी। उस दिन के लिए अदालत ने शहबाज और हमजा पर आरोप तय करने के सिलसिले में तलब किया है। अदालत को सौंपी गई FIA की रिपोर्ट के मुताबिक जांच टीम ने शहबाज परिवार के 28 बेनामी खातों का ‘पता ’ लगाया है। इनके माध्यम से 2008-18 के दौरान 16.3 अरब रूपये का मनी लॉन्ड्रिंग की गई।नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्रPakistan में क्यों इन्वेस्ट करना चाहता है गूगल, सामने आई बड़ी वजह******पाकिस्तान में ने 2021 में 35 करोड़ डॉलर की फंडिंग जुटाई है, जो कि इकोसिस्टम की तुलना में एक छोटी राशि है, लेकिन 2020 में जुटाई गई राशि से पांच गुना है। गूगल ने कहा कि वह टेक की इस अगली लहर को 'गूगल फॉर स्टार्टअप्स एक्सेलेरेटर' (दक्षिण पूर्व एशिया और पाकिस्तान) के साथ पोषित करेगा, विशेष रूप से वे जो ई-कॉमर्स, वित्त, स्वास्थ्य सेवा, एसएमई-केंद्रित बी2बी समाधानों, शिक्षा, कृषि और रसद पर केंद्रित हैं।गूगल इंडोनेशिया, मलेशिया, पाकिस्तान, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड या वियतनाम में स्थित 10 से 15 स्टार्टअप की तलाश कर रहा है, जो सीड या सीरीज ए चरण में हैं। एक्सेलेरेटर इन स्टार्टअप्स को गूगल मेंटर्स, नए संपर्को का एक नेटवर्क प्रदान करके उनकी यात्रा में मदद करने के लिए और सबसे अत्याधुनिक तकनीक प्रदान करेगा।इच्छुक स्टार्टअप्स को 7 अक्टूबर तक आवेदन करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। पाकिस्तान में 3,700 से अधिक स्टार्टअप जैसे डीलकार्ट, डीबैंक, टैग, बाजार और जुगनू व अन्य हैं। पिछले कुछ वर्षो में पूरे दक्षिण पूर्व एशिया और पाकिस्तान में स्टार्टअप लगातार बढ़ रहे हैं और क्षेत्रों की सबसे अधिक चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। कृषि से लेकर स्वास्थ्य सेवा तक ये स्टार्टअप अपने फोकस के क्षेत्र से निपटने के लिए डिजिटल समाधान तैयार कर रहे हैं।अकेले दक्षिण पूर्व एशिया में मार्च 2020 से अब तक 8 करोड़ नए उपयोगकर्ता ऑनलाइन आए हैं, जिससे विभिन्न उद्योगों में डिजिटल प्रोडक्ट्स और सेवाओं को विकसित करने वाले स्टार्टअप के लिए गतिविधि को बढ़ावा मिला है। गूगल ने कहा, "हमने देखा है कि विकास दक्षिण पूर्व एशिया और पाकिस्तान दोनों में नई ऊंचाइयों पर पहुंच गया है।"इस तेजी के पीछे एक कारण यह है कि पाकिस्तान और दक्षिण पूर्व एशिया दोनों में एक संपन्न युवा आबादी है। दक्षिण पूर्व एशिया की आधी से अधिक आबादी 30 साल से कम उम्र की है। पाकिस्तान में भी औसत उम्र सिर्फ 22 साल है। कंपनी ने कहा, "ये युवा तकनीक-प्रेमी होते हैं, उद्यमिता में रुचि रखते हैं और वैश्विक रुझानों के अनुरूप होते हैं।"थाईलैंड 4.0, इंडोनेशिया के 1,000 स्टार्टअप, सिंगापुर के स्टार्टअप एसजी संस्थापक, साथ ही साथ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री युवा कार्यक्रम जैसी सरकार द्वारा संचालित पहल, इच्छुक संस्थापकों को अपने स्टार्टअप को जमीन पर उतारने में मदद करना जारी रखेंगे।

नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्रCoronavirus impact: गो एयर के कर्मचारी तीन मई तक बिना वेतन के रहेंगे अवकाश पर******GoAir employees to go on leave without pay till lockdown ends on May 3 विमानन कंपनी गो एयर के 5,500 कर्मचारियों में से ज्यादातर तीन मई तक बिना वेतन के अवकाश पर रहेंगे। कोरोना वायरस की रोकथाम के लिये जारी ‘लॉकडाउन’ की अवधि बढ़ाये जाने के कारण कंपनी के सभी विमान खड़े हैं। वाडिया समूह के स्वामित्व वाली एयरलाइन ने इससे पहले, मार्च में अपने कर्मचारियों से बारी-बारी से बिना वेतन के अवकाश पर जाने को कहा था। साथ ही उनके वेतन में कटौती की घोषणा की थी। ने शनिवार को अपने र्कचारियों को भेजे पत्र में कहा, 'लॉकडाउन (बंद) को अब तीन मई तक के लिये बढ़ा दिया गया है। इसके साथ ही विमानों की उड़ानें नहीं हो रही हैं। इसीलिए हम बाध्य होकर आपसे आग्रह करते हैं कि आप तीन मई तक बिना वेतन के अवकाश पर रहें।'सरकार ने की मियाद बढ़ाकर तीन मई तक कर दी है। इससे पहले 25 मार्च से 14 अप्रैल तक के लिये बंद की घोषणा की गयी थी। ज्यादातर एयरलाइन ने 15 अप्रैल से उड़ान सेवा शुरू करने की योजना बनायी थी। उन्हें उम्मीद थी कि 15 अप्रैल से बंद को हटा लिया जाएगा। एयरलाइन ने कहा, 'इसीलिए हमें बिना वेतन के अवकाश की अवधि बढ़ानी पड़ रही है।' एक अधिकारी ने कहा कि 5,500 कर्मचारियों में से करीब 10 प्रतिशत पहले की तरह काम करते रहेंगे। हालांकि, इस दौरान उन्हें आंशिक वेतन ही मिलेगा। ये वे कर्मचारी हैं जिनकी कुछ कार्यों के लिये उपस्थिति जरूरी है। गो एयर के अनुसार हमें उम्मीद है कि चार मई से उड़ान की अनुमति होगी और हम चरणबद्ध तरीके से काम शुरू कर सकेंगे।नेपेंशनभोगियोंकोदीबड़ीराहतअब28फरवरीतकदेसकतेहैंजीवनप्रमाणपत्र'तूफान' के बॉक्सर 'अजीज अली' बनने के लिए फरहान अख्तर को लगे 18 महीने, 3 तस्वीरों में देखें लंबा सफर******फरहान अख्तर की फिल्म 'तूफान' डिजिटल प्लेटफॉर्म पर रिलीज होते ही सुर्खियों में हैं। इस फिल्म में ना केवल फरहान अख्तर के अभिनय की तारीफ हो रही है बल्कि फिजीक की भी जमकर तारीफ की जा रही है। लेकिन क्या आपको पता है फरहान अख्तर ने 'तूफान' फिल्म के अलीज अली बनने के लिए 18 महीनों की कड़ी मेहनत की। अपने इसी मेहनत को फरहान अख्तर ने एक ही फ्रेम में तीन अलग-अलग तस्वीरों और कुछ शब्दों के साथ बयां करने की कोशिश की है।फरहान अख्तर ने अपनी कड़ी मेहनत को शब्दों में बयां करते हुए लिखा- 'बहुत सारे आकार और शेप तूफान के अज्जू ऊर्फ अजीज के। बहुत शानदार सफर रहा। 18 महीनों की कड़ी मेहनत, पसीने की हर बूंद, मांसपेशियों में दर्द और शरीर का वजन कम और ज्यादा होना। इसके पीछे के सितारे - समीर जौरा, ड्रू नील और आनंद कुमार।'फरहान अख्तर के इस गजब के ट्रांसफॉर्मेशन पर सेलेब्रिटीज भी जमकर तारीफ कर रहे हैं। अभिनेता ऋतिक रोशन ने इस तस्वीर पर कमेंट करते हुए लिखा- 'मैन 69 से 85..ये आश्चर्यजनक है।' इसके अलावा करण टैकर और वीजे अनुषा ने भी कमेंट किया। वीजे अनुषा ने कमेंट करते हुए लिखा- 'वाउ।' वहीं फरहान अख्तर की गर्लफ्रेंड शिबानी दांडेकर ने कमेंट किया- 'इन तीनों से प्यार है'। इसके साथ ही दिल वाला इमोजी भी बनाया।आपको बता दें, फरहान अख्तर की फिल्म तूफान 16 जुलाई को डिजिटल प्लेटफॉर्म पर रिलीज हुई है। राकेश ओमप्रकाश द्वारा निर्देशित ये फिल्म डोंगरी के एक गुंडे अजीज अली (फरहान अख्तर) के बारे में है, जो एक बॉक्सर के रूप में सफलता पाता है, और केवल एक गलती से सबकुछ खो देता है। फिल्म ड्रामा पैदा करती है, क्योंकि अजीज सभी बाधाओं के खिलाफ वापसी करने की कोशिश करता है। फिल्म में फरहान की प्रेमिका की भूमिका में मृणाल ठाकुर और अजीज के कोच के रूप में परेश रावल हैं। इसके अलावा सुप्रिया पाठक कपूर, हुसैन दलाल, डॉ. मोहन अगाशे, दर्शन कुमार और विजय राज हैं।

पिछला:सुमित अंतिल को 6 करोड़, कथूनिया को 4 करोड़ रूपए पुरस्कार देगी हरियाणा सरकार
अगला:'नागिन 4' के एक्टर विजयेंद्र कुमेरिया हुए फर्जी कास्टिंग कॉल का शिकार
संबंधित आलेख